मन का अपना दर्पण

15-09-2020

मन का अपना दर्पण

राजनन्दन सिंह

वह शीशा
जिसमें हम स्वयं को देखते हैं
स्वयं को सँवारते हैं
वस्तुतः  उसमें 
हम स्वयं नहीं दिखते
हमारा मुखड़ा दिखता है
हम अपना मुख सँवारते हैं
 
एक दर्पण 
मन के भीतर है
मन की ऊँचाइयों पर
कोमल निर्मल स्वच्छ
कई नदी कई वन कई रेगिस्तान 
पार करने के बाद
कई पर्वतों के ऊपर
एक रहस्यमयी  
गुप्त शून्याकाश में 
 
पर्वतों की फिसलन भरी 
कठिन चढ़ाई
लाँघते हुए वहाँ पहुँचने पर
एक असीम सृष्टि है
सूक्ष्मातिसूक्ष्म
बहुआयामी 
पर वह 
किसी उपग्रह कैमरे का 
लेंस नहीं है 
 
वह दर्पण है
मन का भीतरी दर्पण
भौतिक सूक्ष्म सूक्ष्मातिसूक्ष्म
मन कण  अणु परमाणु
जहाँ सब दृष्टिगोचर हैं  
 
साँस थामे वहाँ ध्यान से 
चुपचाप एकाग्रचित बैठना
स्वयं को ढूँढना 
स्वयं को देखना
स्वयं को सँवारना
स्वयं को साधना
और एकाग्रता बनाए रखना 
सावधान 
स्वयं को देखना 
एक हर्षातिरेक है
एकाग्रता न टूटे 
ध्यान रहे
वरना अदृश्य हो जाएगा 
मन का दर्पण 
और पुनः उस हर्षातिरेक को
फिर से चढ़नी होगी
वही कठिन चढ़ाई 
फिर से करना होगा 
वही सब कुछ

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में