मन बहलाओ गर्मी

15-08-2020

मन बहलाओ गर्मी

राजनन्दन सिंह

मेरा मन बहलाओ गर्मी
आओ गर्मी आओ गर्मी
 
तुम आते तो आम खिलाते
स्कूल से आराम दिलाते
आओ ख़ुशियाँ लाओ गर्मी
आओ गर्मी आओ गर्मी
 
लम्बी छुट्टियाँ लेकर आते
जाने फिर कहाँ पर जाते
कहीं नहीं तुम जाओ गर्मी
आओ गर्मी आओ गर्मी
 
गर्मी में हम ख़ूब नहाते
ख़ूब खेलते मन हर्षाते
यहीं कहीं बस जाओ गर्मी
आओ गर्मी आओ गर्मी

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में