मैं एक छोटा सा नेता हूँ

15-02-2021

मैं एक छोटा सा नेता हूँ

राजनन्दन सिंह

मैं एक छोटा सा
नन्हा सा प्यारा सा 
अदना सा नेता हूँ
आप लोगों की मेहरबानी से 
देश का एक नाव
मैं भी खेता हूँ
आप कहेंगे नाव खेना
ये कौन सी नेतागिरी है
तो बड़े नेताओं की तरह
मैं कभी किसी को 
भाषणों में नहीं उलझाता
पहेलियाँ  नहीं बुझाता
ये लो मैं ख़ुद ही खुलकर बतलाता हूँ
केन्द्रीय भ्रष्टाचार प्रोत्साहन मंत्रालय का
मैं केन्द्रीय राज्यमंत्री हूँ
जनता का सेवक हूँ
सरकार का संतरी हूँ
भ्रष्टाचार पूरी ईमानदारी से फैलाता हूँ
भ्रष्ट मंत्रियों की भ्रष्टता में
कोई ख़लल न पड़े
सरकार को जनता की
निगाहों से बचाता हूँ
सरकार के विरुद्ध लोग
कहीं एक न हो जाएँ
जनता को जनता से उलझाता हूँ
जाति-धरम ऊँच-नीच का
मुद्दा उठाता हूँ
ज़रूरत पड़ी तो 
क्षेत्रियता और विकास की
हवा बनाता हूँ
अपने ही नेता पर
अपने ही छद्मभेषी कार्यकर्ता से
सुरक्षित हमले करवाता हूँ
मुँह पर स्याही फिंकवाता हूँ
संकेत मिलता है
तो दंगे भी करवाता हूँ
क्या करूँ
सरकारी मंत्री हूँ
सरकार हित में सोचना पड़ता है
विकास की तरफ 
जनता के बढ़ते हुए क़दम
रोकना पड़ता है
अब देखिये न आजकल 
फूट डालो कुर्सी बचाओ मंत्रालय का
अतिरिक्त कार्यभार भी मेरे ही ऊपर है
सच पूछिये तो चिन्ता के मारे
ऐशो आराम भी दूभर है
ऊपर से जनता भी बाज़ नहीं आती 
गालियाँ सुनाने से
कितना दुम हिलाने 
और तलवे चटवाने के बाद
एक कुर्सी क्या दिलवाती है
ज़रा सी बात न बिगड़ी कि
चूकती नहीं है 
हमारे विरुद्ध नारे लगाने से
हमारे पुतले जलाने से
अरे प्रजातंत्र के नागरिकों
पाँच दिनों की कुर्सी के बदले
पचहत्तर तलवे चटवाते हो
कभी सोचा है तुमने 
आख़िर क्या लाभ है
ऐसी डगमगाती कुर्सी दिलवाने से
मैं तुम्हारे लिए  कुछ अच्छा
कभी सोंचूँ तो कब सोंचूँ
मुझे फ़ुर्सत ही कहाँ है
सरकार की दुम सहलाने से
जनता के आगे  दुम हिलाने से
अपनी असुरक्षित 
अस्थायी कुर्सी बचाने से
इसीलिए मेरा आग्रह है
आप लोगों की मेहरबानी से 
मैं तो महज़ देश की 
एक छोटा सी नाव खेता हूँ
मैं एक छोटा सा
नन्हा सा प्यारा सा 
अदना सा नेता हूँ

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में