मैं और तुम

01-09-2020

मैं और तुम

राजनन्दन सिंह

मैं 
आसमान हूँ
शून्य
यानि कुछ भी नहीं
 
तुम 
वह सब कुछ हो
जो आसमान में दिखता है
चाँद, सूर्य, सौरमंडल, तारे, तारेगण, 
आकाशगंगा, आकाशगंगा समूह
 
मुझमें वायु तुम हो
वायुमंडल तुम हो
नमी बादल ध्वनि तुम हो
गति प्रकाश अँधेरा तुम हो
आकर्षण विकर्षण वज्र तुम हो
दण्ड बिजली सप्तरंगी इंद्रधनुष तुम हो
 
यह वह और “तुम” तुम हो
मुझमें मेरा “मैं” भी तुम ही हो
तुम्हारी उपस्थिति ही  
मेरा अस्तित्व है
मैं तुमसे विभूषित हूँ
मैं तुमसे आलोकित हूँ
तुम्हीं से चल हूँ
तुम्हीं से चैतन्य हूँ

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो