महल और झोपड़ी

15-08-2020

महल और झोपड़ी

राजनन्दन सिंह

तुम्हारे महल के सामने
वह जो एक झोपड़ी खड़ी है
तुम उसे उजाड़ देना चाहते हो
तुम्हें लगता है 
वह तुम्हारे बंगले की 
शोभा और शान घटा रही है
 
वास्तव में वह झोपड़ी
एक छोटी लकीर है
तुम्हारी बड़ी रेखा के सामने
घास-फूस का एक अलंकार 
जो तुम्हारे महल की 
शोभा और शान वस्तुतः
घटा नहीं, बढ़ा रही है
 
सोचो 
किसी दिन वह हटकर
ठीक तुम्हारे महल का हीं रूप ले ले
तो तुम्हारी शान  
दो भागों में बँट जाएगी
तुम्हारी शान जितनी आज है 
उससे आधी रह जाएगी
और इस तरह तुम्हारे ईर्द-गिर्द
महलों की संख्या 
जैसे-जैसे और जितनी 
बढ़ती जाएगी
तुम्हारी शान 
वैसे-वैसे उतने हीं भागों में
बँटती जाएगी
घटती जाएगी

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो