महा अफ़सोस

01-12-2020

महा अफ़सोस

राजनन्दन सिंह

सो रही है
ब्राह्मणों की विद्वता
विप्रों के धर्म
कर्तव्य और ज्ञान
 
सो रही है
क्षत्रियों की तलवारें
क्षात्र धर्म है मंद 
नही उबलते ख़ून 
नहीं रही अब आन
 
जाग रही है तो सिर्फ़ 
वैश्यों की तिजोरी
खरीदने को
पनपती नैतिकता
अभिमन्यु की वीरता
 
जाग रहा है शूद्र
ब्राह्मणों से विक्षुब्ध
अभी तक वंचित
अभी तक अधीर
बेचने को अपना मत
बिकने को बन भीड़
 
जाग रहे कुछ कुत्ते
कुछ नील सियार
जाग रही है कुटिल 
अनैतिक क्षुद्र दुष्प्रवृतियाँ
अफ़सोस!
कि सो रही है हमारी
रौद्र प्रवृतियाँ
 
महा अफ़सोस
अभी तक नींद में है हमारा साहित्य
सो रहे हैं हमारे साहित्यकार
अभी तक जगे नहीं हैं
ब्राह्मरत बुद्धिजीवियों के
प्रबुद्ध विचार
अभी तक जगा नही है
मानव का धर्म
शिव का रुद्र और 
शैव की  हुंकार

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
सम्पादकीय प्रतिक्रिया
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में