क्षेत्रियता की सीमा

01-01-2021

क्षेत्रियता की सीमा

राजनन्दन सिंह

क्षेत्रियता की सीमा
गाँव ज़िले राज्य
यहाँ तक कि 
अब देश भी नहीं रही
 
मानव 
विश्वमानव बनने जा रहा है
क़बीले समुदाय छोटे राज्य
इतिहास बन चुके हैं
 
देश महादेश की सीमाएँ
अब शत्रु नहीं
मित्र बन रही हैं
विश्व संस्कृति
विश्व राष्ट्र 
विश्व क़ानून
विश्व व्यवस्था की
शुरुआत हो चुकी है
 
एक देश की ख़ुशी
दूसरे देशों को 
हँसी दे सकती है
तीसरे देश की तबाही
सारी दुनिया को 
लपेटे में ले सकती है
 
विश्व एक आँगन बन रहा है
विश्व मानवों में ज़्यादा 
अलग-अलग अब उद्देश्य भी नहीं रहे
क्षेत्रियता की सीमा
अब गाँव ज़िले राज्य
यहाँ तक कि देश-विदेश भी नहीं रही

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में