कोटि नमन हे प्राणाधार

15-10-2020

कोटि नमन हे प्राणाधार

राजनन्दन सिंह

कोटि नमन हे भारत तुमको कोटि नमन हे प्राणाधार
मीठे जल बरसाते बादल तेरी नदियाँ अमृत धार
तेरा मस्तक ऊँच हिमालय लिये खड़ा है जीवन सार
कोटि नमन हे भारत तुमको कोटि नमन हे प्राणाधार
 
चाँदी बहती है नदियों में सोने की रेत किनारों पर
धरा उगलती है हीरा मोती है यहाँ पहाड़ों पर
तेरा आँचल हरा भरा है रंग-बिरंगे फूल खिले
दूर क्षितिज तक हरियाली है जहाँ जमीं आकाश मिले
 
तेरे वन उपवन में चंदन है तेरे कण-कण में प्यार 
कोटि नमन हे भारत तुमको कोटि नमन हे प्राणाधार
 
तू देवों की जननी माता वीरों की तू जन्मभूमि
ऋषि-मुनियों की तपोभूमि तू ही गिरिधर की कर्मभूमि
तेरी मिट्टी के कण-कण में ईश व्याप्त जीवन संचार
कोटि नमन हे भारत तुमको कोटि नमन हे प्राणाधार

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में