झूठ का  प्रमेय

01-06-2020

झूठ का  प्रमेय

राजनन्दन सिंह

झूठ का प्रमेय
कभी सिद्ध नहीं होता
क्योंकि झूठ का कोई
गणित नहीं होता
झूठ की कोई 
व्यवहारिकता 
नहीं होती
झूठ
या तो झूठ होता है
या फिर उतना ही रहता है
जितना वह स्वयं के बारे में कहता है
संभवतः थोड़ा ज़्यादा ही
मगर कम रत्ती भर भी नहीं
स्थापित झूठ के वक्ता 
एवं श्रोता की 
सिर्फ़ मंशा समान होती है
उनके बौद्धिक बल
समान नहीं होते
वक्ता की बुद्धि जितनी ढीठ कुटिल 
और प्रचंड होनी चाहिए
श्रोता की बुद्धि उतनी हीं भोली 
भयभीत प्रश्नहीन और समर्पित 
वरना झूठ 
झूठा पड़ जाएगा
क्योंकि झूठ का
कोई गणित नहीं होता

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो