जब से बुद्धि आई है

01-03-2021

जब से बुद्धि आई है

राजनन्दन सिंह

आज जहाँ 
जंगल के बाघ शेर चीते 
पराजित पड़े पिंजरे में 
पालतू होने के अभ्यस्त हैं
हाथी घोड़े बंदर भालू 
सवारी शौक़ीन नबाबों
तमाशबीनों के
शौक़ से त्रस्त हैं
जंगल भक्ति का दंभ
अब लक्करबग्घे भरते हैं
भेड़िये गीदड़ लोमड़ी
अपनी-अपनी क़ाबू भर
दाँत निपोरने तलवे चाटने
और दुम हिलाने में व्यस्त हैं
कुछ गीदड़
विचरते हैं गुरु का चोला ओढ़े
मैदानों पर अपना 
जाल फैलाये मस्त हैं
शाकाहारी पशु भय से 
चरने भी नहीं निकलता
जंगल का घास 
यूँ ही पकठा रहा है 
जब से बुद्धि आई है
प्रकृति की व्यवस्था ध्वस्त है
धनी धनपशुओं का जाता ही क्या है
कौन भूखे मरा
कौन बेरोज़गार है
कौन अभावग्रस्त है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
सम्पादकीय प्रतिक्रिया
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में