जब कोई दल बदलता है

01-08-2021

जब कोई दल बदलता है

राजनन्दन सिंह

जब कोई खल
या भल
अपना दल बदलता है
तो दल के साथ-साथ 
उसका कल 
और कल बदलता है
छल बदलता है
तल बदलता है
थल बदलता है
पल फल और बल बदलता है
 
जब कोई खल या भल
अपना दल बदलता है
तो उसके दल की परिभाषा में
व्यवस्था की सकल
समस्याओं की शकल  
बदलती है
समस्याओं का
हल बदलता है। 
जब कोई खल या भल
अपना दल बदलता है

 

कल=कौशल, भविष्य; तल=आधार; थल=स्थल; भल=निरूपण

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
दोहे
सम्पादकीय प्रतिक्रिया
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में