घोंसला और घर

15-05-2020

घोंसला और घर

राजनन्दन सिंह

सभी गौरैयाँ
एक से घोंसले बनाती हैं
सभी दरजिन चिड़िया
एक से घोंसले सीती हैं
सभी गीदड़
एक सा माँद खोदते हैं
सभी चूहे
एक से ही बिल खोदते हैं
मगर सभी मनुष्य
एक सा घर नहीं बनाते
किसी की झोपड़ी
किसी का महल
कोई बेघर
तो किसी का सौ घर
क्योंकि मनुष्य बुद्धिमान है
और बुद्धि की 
एक अलग पहचान है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो