घर का नक़्शा

01-03-2020

घर का नक़्शा

राजनन्दन सिंह

आम आदमी 
जब अपने घर का नक़्शा बनाता है
उसमें एक जगह
एक छोटी सी 
दुकान का हिसाब भी लगाता है
सोचता है देश की तरक्क़ी होगी
आज नहीं तो कल यह गली
छोटा मोटा बाज़ार हो जाएगा
बुढ़ापे में यदि कुछ और न हुआ
तो इस दुकान से एक छोटा सा
एक रोज़गार हो जाएगा
घर बैठे
दाल रोटी का जुगाड़ हो जाएगा

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में