गेहूँ का जीवन मूल्य

15-06-2020

गेहूँ का जीवन मूल्य

राजनन्दन सिंह

एक हाथ ज़मीन खोदकर
गेहूँ उपजाने के बदले
हमने पृथ्वी की 
हज़ार तहों को तोड़ा
काली पीली चमकीली 
धातु-कुधातुओं को निकाला
और उसमें भर दिया 
एक झूठा संचित मूल्य
जो भूख-प्यास नहीं मिटा सकती
जो ठंडी से गर्मी से 
धूप से बारिश से
नहीं बचा सकती
गेहूँ का अपना जीवन मूल्य होता है
जो सोने में नहीं होता
सोने का अपना 
कोई  जीवन मूल्य ही नहीं 
इसीलिए यह सिर्फ़
आदमी के काम आता है


सोने में संचित मूल्य
वास्तव में गेहूँ का जीवन मूल्य है 
और तभी तक है
जब तक गेहूँ है
गेहूँ की भरमार है
आज जो एक तोला सोने में 
चार टन गेहूँ का मूल्य संचित है
किसी दिन कहीं ऐसा हुआ 
कि किसी कारणवश
धातुओं का धंधा ही न रहा
और ज़िंदगी
गेहूँ पर निर्भर हो गई
तो किसी की मानवता
भले ही मदद में पहुँचा दे
किसी को चार किलो गेहूँ
मगर ख़रीदने जाए 
तो तब शायद 
चार टन सोने का संचित मूल्य भी 
कम पड़ जाए
एक मुट्ठी गेहूँ के 
जीवन मूल्य के लिए 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें