गौ पालकों से

15-04-2020

गौ पालकों से

राजनन्दन सिंह

बछड़े तुमने बाँध रखे हैं
कहाँ अंततः जायेगी
आठ पहर वो कहीं भी भटके
सुबह शाम तो आयेगी


गाय सभी की माता है
घर-घर में रोटी दाता है
पन्नी कूड़ा कुछ भी खाकर
दूध तुम्हें दे जाएगी


प्यास लगे तो कहाँ से पानी
सोचो यह पीती होगी
कंठ सूखता होगा तो
किस हाल में यह जीती होगी


घूमते घूमते गाय बेचारी
थक कर इतनी होती चूर
जहाँ जगह कोई खाली पाती
वहीं बैठ जाती मजबूर


सर्दी गर्मी आँधी पानी
सब कुछ सड़कों पर सहती है
महानगर का धुँआ पीती
खुले में बैठी रहती है


गाय वस्तुतः तुम्हें पालती
दूध दही तुम खाते हो
घर बैठे तुम बिन गौ सेवा
गौ पालक कहलाते हो


दूध दही खाते हो तो
कुछ लाज रखो इस नाते की
विधिवत बाँधो गाय, जुटाओ
चारा-पानी माते की


मत छोड़ो इस तरह गाय को
भूखी क्या-क्या खायेगी
सोचो कहाँ-कहाँ भटकेगी
किसकी गौ कहलाएगी

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो