गर्व हमें है

01-06-2020

गर्व हमें है

राजनन्दन सिंह

गर्व हमें है इस दुनिया में भारतवासी होने का
गंगा जमुना इस धरती पर मथुरा काशी होने का


धरती का यह स्वर्ग यहाँ आने को देव ललचते हैं
हर जाति हर वर्ग यहाँ बँध एक सूत्र में रहते हैं


सबसे ऊँचा हिमालय का मस्तक मेरा शान है
कहीं झुके न कभी झुके न हम इस पर क़ुर्बान हैं


तपोभूमि है ऋषि-मुनि की देवों को यह प्यारी है
जन्मभूमि है वीरों की यह हर देशों से न्यारी है


मातृभूमि से प्यार हमें यह प्राणों से भी प्यारी है
मातृभूमि से प्यार हमें यह प्राणों से भी प्यारी है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में