ग़रीब सोचता है

15-02-2021

ग़रीब सोचता है

राजनन्दन सिंह

गरीब सोचता है
अमीरी बढ़े
जिससे रोज़गार मिलता रहे
अमीर सोचता है
गरीबी बढ़े
जिससे सस्ते मज़दूर मिलते रहें
पार्टियाँ सोचती हैं
अमीर कुछ ग़लत करें
और चंदा दे
अमीरों से नोट मिलता रहे
नेता सोचता है
ग़रीब पिसे
जिससे उसके भाषण को
विषय मिले
ग़रीबों से वोट मिलता रहे

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में