एक शब्द : नारी

01-01-2021

एक शब्द : नारी

राजनन्दन सिंह

लज्जा प्रेम शील समर्पण 
त्याग ममता और शक्ति
यह नारी है
अनेक शब्दों के लिए 
एक शब्द
 
मुझे नहीं लगता
दुनिया के किसी भी अन्य भाषा में
इस शब्द का कोई पर्याय होगा
जहाँ तक मेरी जानकारी है।
 
यह शब्द
न तो नर का स्त्रीलिंग है
और न ही मादा का पर्याय
इस शब्द में
एक संस्कृति है मर्यादा है
प्रेम है महानता है अलंकार है
 
स्त्री होना ही नारी होना नहीं है
हमारी संस्कृति में
जो नारी नहीं है 
वह महज़ नार है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
सम्पादकीय प्रतिक्रिया
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में