दीये की लौ पर

01-11-2020

दीये की लौ पर

राजनन्दन सिंह

दिये की लौ पर
उन कीड़ों का जलना
नहीं है
कोई प्रेमवश प्राणार्पण
किसी प्रेमी का संदेश
मत समझो
ये प्रेम के कोई परवाने आते हैं
यह तो प्रतीक है
अस्तित्व विहीन उन दुष्टों का
जो अँधेरगर्दी क़ायम रखने की ख़ातिर
रोशनी को बुझाने आते हैं
तिनका होकर आग से 
टकराने आते हैं
दीये की लौ पर ये दुष्ट
अपनी हस्ती आज़माने आते हैं

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में