बुद्धि से काम लेना

01-08-2021

बुद्धि से काम लेना

राजनन्दन सिंह

अपनी परंपरागत विशेषता को 
अंजाम देना
अपनी बुराई को कोई अच्छा
और उनकी अच्छाई को
कोई बुरा सा नाम देना
सुना है तुझपर वह बाईस है 
हर बात में
तो बाईस को अशुभ कहना
बाईस को इल्ज़ाम देना
और कभी दुर्भाग्य से
वो पच्चीस पर पहुँच जाए
तुम बाईस पर रह जाओ
तो बाईस में महत्व गढ़ना
इसे कोई उँचा सा मुक़ाम देना 
और हाँ जो तुम पे भारी पड़े
उसे मायावी कहना
बाद में भले
वह तेरा कुटुम्बी ही न क्यों निकले
देखेंगे बाद में
पहले तो यही करना
बुद्धि से काम लेना 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
दोहे
सम्पादकीय प्रतिक्रिया
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में