अंतराल
चाहे जितना छोटा हो
अंतराल 
चाहे जितना बड़ा हो
आवृत्ति
आवृत्ति
और पुनरावृत्ति
यही तो होता है
जिसे हम या तुम
समझते हो
विलुप्त हो गया
उपस्थित हो जाएगा
एक दिन तुम्हारे हमारे सामने
लोप कुछ भी नहीं होता
धीरज रखो
और उसकी 
पुनरावृत्ति का अंतराल
ज़रा पूरा होने दो

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में