क़ौम की हवा

15-02-2021

क़ौम की हवा

सुशील यादव

शिकायत थी ख़राश की, हार ले के  आ गए
तुम आंदोलन की हवा बुखार ले के आ गए
 
काट कर नहीं ला सकते अब की जो  फ़सल
तुम मुट्ठियों में अब की  ज्वार ले के आ गए
 
सहमत नहीं होते तो ना सही मगर क्या
ज़रूरी थी अपनी धुन सितार ले के आ गए
 
सियासत की नासमझी क़तार में खड़ी
तुम ट्रेक्टर को समझ तलवार ले के आ गए
 
वादों से मुकरने का यहाँ जोश लबालब 
इन्हीं के सामने इल्तिजा गुहार ले के आ गए

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ग़ज़ल
दोहे
कविता
हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
कविता-मुक्तक
पुस्तक समीक्षा
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में