अधरों की मौन पीर

01-08-2021

अधरों की मौन पीर

डॉ. शोभा श्रीवास्तव

अधरों की मौन पीर
आँखों ने झेला है,
मन मेरा अकेला है।
दोपहरी, तेज धूप
निठुराई बेला है,
मन मेरा अकेला है।
 
अलसाई पाँखों की
आस अभी बाक़ी है
काया है जर्जर पर
साँस अभी बाक़ी है
 
जीवन ने तन-मन संग
खेल कैसा खेला है
मन मेरा अकेला है
 
अँधियारे को पीकर
सूर्य तो निकलता है
क्या जाने वो किसका
घर-आँगन जलता है
 
टूटी सी खटिया में
नींद का झमेला है
मन मेरा अकेला है
 
अँगनाई बोझिल सी
काँप रही शाखाएँ
जीवन रस सोख रहीं
पीड़ा की ज्वालाएँ
 
कहने को दुनिया में
ख़ुशियों का मेला है
मन मेरा अकेला है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक
गीत-नवगीत
दोहे
कविता
सामाजिक आलेख
रचना समीक्षा
साहित्यिक आलेख
बाल साहित्य कविता
ग़ज़ल
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में