ज़ुर्म की यूँ दास्तां लिखना

09-12-2011

ज़ुर्म की यूँ दास्तां लिखना

सुशील यादव

ज़ुर्म की यूँ दास्तां लिखना
ख़ंजर अपना पता लिखना

मिले जो हम किसी मोड़ पे
गली की बस ख़ता लिखना

इनायत करम, तुम पे करे
उसे तो ख़ुदा, ख़ुदा लिखना

लकीरें कब मिटा करती
जुदा हों तो, जुदा लिखना

कहीं तू ज़िक्र में आये
कहे दिल कुछ, भला लिखना

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख/कहानी
दोहे
ग़ज़ल
कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो