यूँ भी कोई

01-02-2021

यूँ भी कोई

सुशील यादव

अँधेरे में यादों की परछाई रखता है
यूँ भी कोई  दूर की बीनाई रखता है
 
जिसके हाथ खुले  पैर मगर  हो ज़ंजीरें
बातें माकूल कहाँ जग- हँसाई रखता है 
 
देख फटे हाल उसे  कोई कहता भी क्या
वो जेबों की यूँ  नादान सिलाई रखता है
 
हमको भी आता था हुनर सीने-पिरोने का
पर वही यक़ीनन वाजिब तुरपाई रखता है
 
हम तो ढूँढ़ रहे, टूटे रिश्तों के वजूद 
मन ये कबाड़ बुनी चारपाई रखता है
 
सब ने उनको देखा है, दूर शहर से आते 
कहने को सरमाया फ़कत चटाई रखता है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
ग़ज़ल
दोहे
हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
कविता-मुक्तक
पुस्तक समीक्षा
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में