यादें (मुकेश कुमार ऋषि वर्मा)

01-12-2019

यादें (मुकेश कुमार ऋषि वर्मा)

मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

कभी हँसाती 
कभी रुलाती 
यादें! 


कभी सताती 
खट्टे-मीठे दिन याद दिलाती 
यादें! 


गुज़रे दिन 
दु:ख या मौज में 
पल-पल की फ़िल्म दिखाती 
यादें! 


ख़ुशी हो या 
हो ग़म 
आँसू बनकर छलक जाती 
यादें! 


ये नटखट 
बड़ी सताती 
तरह-तरह के रूप दिखाती 
यादें! 


कभी बचपन तो 
कभी पचपन की सैर कराती 
यादें! 


ज़िंदगी के साथ-साथ चलती 
यादें... 

0 Comments

Leave a Comment