विज्ञानकु: स्वास्थ्य

01-08-2021

विज्ञानकु: स्वास्थ्य

सुभाष चन्द्र लखेड़ा

जीने की चाह
अगर है तो न हों
लापरवाह।
 
कोशिश करें
तंदुरुस्त हो तन
शुद्ध हो मन।
 
शुद्ध हो हवा
तो यक़ीन मानिए
रहेंगे जवां।
 
स्वच्छ हो जल
अंग प्रत्यंग सभी
होंगे निर्मल।
 
मिट्टी हो स्वस्थ
भला फिर क्यों होंगे
हम अस्वस्थ। 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु
लघुकथा
आप-बीती
सांस्कृतिक कथा
स्मृति लेख
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में