तहज़ीब का मसला

15-07-2021

तहज़ीब का मसला

सुभाष चन्द्र लखेड़ा

एक पाकिस्तानी धारावाहिक में साक्षात्कार के लिए आमंत्रित सफ़ाई कर्मी से मेज़बान पूछता है, "आप कैसे हैं?

यह सुनकर वह सफ़ाई कर्मी बोला, "आप मेरी बेइज़्ज़ती कर रहे हैं? आपको पूछना चाहिए, ’तू कैसा है’?"

मेज़बान बोला, “आप मेहमान हैं। मैं आपको तू कैसे कह सकता हूँ?”

वह बोला, “आप वही बोलिए जो मैं आज तक सुनता आया हूँ। मैं तो बचपन से यही सुनता आया हूँ - ओय तू कैसा है? ओय तू कल किधर था?....ये कचरा क्या तेरा पियो उठाएगा?”

वह साक्षात्कार चालू था और मैं सोच रहा था कि देश का विभाजन होने के बावजूद हम और पाकिस्तानी ग़रीबों से तहज़ीब के मामले में आज भी एक जैसे हैं।   

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु
लघुकथा
आप-बीती
सांस्कृतिक कथा
स्मृति लेख
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में