मेरा गाँव

01-11-2019

कभी बड़ा ख़ूबसूरत था मेरा गाँव 
मिलती थी बरगद वाली ठण्डी छाँव 

 

शहरों ने सीमा जब से तोड़ी 
गाँव की पगडंडियाँ हुईं चौड़ी 

 

लग गई हवा शहर की गाँव को, 
तो हर चीज़ का होने लगा मोलभाव 

 

हृदय बने मशीनी, दया रही न तनिक 
ऑनलाइन रिश्तों में मिली न महक

 

हरे-भरे खेत सब हो गये बंजर
कैसा चला गाँव पर शहरी खंजर 

सर्वत्र खड़ा कचरे का पहाड़ मिले 
धरती के आँचल में विनाश पले 

कभी बड़ा ख़ूबसूरत था मेरा गाँव 
अब पहले जैसा नहीं रहा मेरा गाँव 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें