लाचारी

01-12-2020

लाचारी

सुशील यादव

सूने घर में बुन देती है, मकड़ी जैसे जाल
बिल्कुल मेरे सूनेपन का, समझो वैसा हाल
 
अब राहत की खिड़की सारी, बहुत दिनों से बंद
जहाँ उधारी मिल जाती थी, वह धंधा भी मन्द
 
होती ख़ुशियों की दीवाली, भरी उमंगें ईद
अब लाचारी घर रहने की, दूर-दूर ताकीद
 
ऐसे में क्या निभ पाएगा, दुनिया माया खेल
तिल तिल निकला हुआ तिलों से, अरमानों का तेल
 
नहीं खोल के जी लहराता, रहता है बेडोल
हर मुल्क की लो  रुकी तरक़्क़ी, मुश्किल में भूगोल

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ग़ज़ल
दोहे
कविता
हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
कविता-मुक्तक
पुस्तक समीक्षा
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में