28-07-2014

कोई सबूत न गवाही मिलती

सुशील यादव

२२१२ १२२२ २२


कोई सबूत न गवाही मिलती
हक़ माँगते, तबाही मिलती

क्या है जिरह ज़माने वालो अब
किस बात शक़्ल में स्याही मिलती

सहमे दिखे अमन - ईमां वाले
घर मयकदे की सुराही मिलती

नाकामियाँ सिखा देती जीना
किस ख़ास हुनर वाहवाही मिलती
 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख/कहानी
दोहे
ग़ज़ल
कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

A PHP Error was encountered

Severity: Core Warning

Message: PHP Startup: Unable to load dynamic library '/usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll' - /usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll: cannot open shared object file: No such file or directory

Filename: Unknown

Line Number: 0

Backtrace: