कोई सबूत न गवाही मिलती

28-07-2014

कोई सबूत न गवाही मिलती

सुशील यादव

२२१२ १२२२ २२


कोई सबूत न गवाही मिलती
हक़ माँगते, तबाही मिलती

क्या है जिरह ज़माने वालो अब
किस बात शक़्ल में स्याही मिलती

सहमे दिखे अमन - ईमां वाले
घर मयकदे की सुराही मिलती

नाकामियाँ सिखा देती जीना
किस ख़ास हुनर वाहवाही मिलती
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ग़ज़ल
दोहे
कविता
हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
कविता-मुक्तक
पुस्तक समीक्षा
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में