फ़साद की जड़

01-02-2021

रेलगाड़ी में लोग मौक़ा मिले तो बतियाते ज़रूर हैं। वे दोनों भी बतियाने लगे। सफ़र लंबा था। जानते थे कि आपस में गपशप करने से सफ़र अच्छा कटता है। पहल गोपाल जी ने की।

"आप भी इलाहाबाद तक?"

"जी हाँ; प्रयागराज तक!"

जवाब सुनकर गोपाल जी समझ गए कि इन श्रीमान जी से आगे बात की तो सफ़र कटेगा नहीं, काटेगा। फलस्वरूप, वे उठकर  दरवाज़े के पास जाकर बाहर का नज़ारा देखने लगे।

लौटे तो उनका अनुमान सही निकला। प्रयागराज जाने वाले सज्जन एक दूसरे सज्जन से कह रहे थे – नेहरू ही सारे फ़साद की जड़ है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

आप-बीती
सांस्कृतिक कथा
कविता - हाइकु
लघुकथा
स्मृति लेख
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में