फुदक-फुदक कर नाचती चिड़िया, 
दाना चुगकर उड़ जाती चिड़िया।

 

हरी-भरी सुंदर बगिया में, 
मीठे-मीठे गीत सुनाती चिड़िया।

 

अपने मिश्री-घुले बोलों से 
बच्चों का मन चहकाती चिड़िया।

 

नित मिल-जुल कर आती,
आपस में नहीं झगड़ती चिड़िया।

 

प्रेमभाव से रहना सिखलाती, 
बहुत बड़ी सीख देती नन्ही चिड़िया।

 

तरह-तरह के रूप-रंग वाली, 
लाल, हरी, काली, नीली, पीली चिड़िया।

 

फुदक-फुदक कर नाचती चिड़िया, 
दाना चुगकर उड़ जाती चिड़िया॥

0 Comments

Leave a Comment