कई बार मन में
है आता यही,
मुझे कुछ समझ में
क्यों आता नहीं . . . 
 
खुलकर यहाँ लोग
मिलते नहीं,
न हँसते ही हैं
और हँसाते नहीं . . . 
 
मुखोटों के पीछे
छुपे है सभी,
क्यों, झूठ से दामन
छुड़ाते नहीं . . . 
 
मंज़िलों पर हैं
निगाहें टिकी,
क्यों, मील का पत्थर
सराहते नहीं . . . 
 
हार जीत का ये
अजब खेल है,
दौड़े फिरते हैं सब
ठहर पाते नहीं...
 
आता है मन में
यही बार बार,
मैं यहाँ पर तो हूँ
पर यहाँ की नहीं . . . 
 
कहीं मैं कोई 
परी तो नहीं . . . 
कहीं मैं कोई
परी तो नहीं . . . !!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें