ज़ंजीर से बाहर

15-01-2020

ज़ंजीर से बाहर

राहुलदेव गौतम

देख लिया तुम्हारे वादों का मुकम्मल।
इससे तो बेहतर निकली,
मेरी एलआईसी की पॉलिसी।
जीवन के साथ भी...
जीवन के बाद भी।


मैं अक्सर उन लोगों से पीछे था।
जो यह कहते थे...
तुम बहुत धीरे चलते हो!
लेकिन मैं जानता हूँ,
मेरे दोनों पैरों पर ज़िन्दगी की बोझ था।


दरिया में डूबने वालों को,
ढूँढा जा सकता है।
लेकिन उनका क्या जो,
किसी की संवेदनाओं में डूब जाते हैं।


सबक़ तो हमारे यहाँ
फुटकर में भी मिल जाते है।
आज एक चीटीं ने भी बता दिया...
मंज़िलें मिलें या ना मिले
मगर चलते रहो।

0 Comments

Leave a Comment