मेरा गुनाह

01-07-2020

मेरा गुनाह

राहुलदेव गौतम

गुनाह है मेरी आँखें जो चुपचाप रो देती हैं
गुनाह है मेरे शब्द जो ज़हर घोल देते हैं
गुनाह है मेरे हाथ जो बेबसी में उठते नहीं
गुनाह है मेरा जीवन जो पीड़ा को जी लेता है
गुनाह है मेरा वर्तमान जो तमाशगीर बन बैठा है
गुनाह है मेरी दुआ जो बेअसर हो जाती है
गुनाह है मेरा पेट जो भूख सह लेता है
गुनाह है मेरी साँसें जो घुट-घुट कर रह जाती हैं
गुनाह है मेरे आँसू जो बेवज़ह बह जाते हैं
गुनाह है मेरे चराग़ जो अँधेरों में जल जाते हैं
गुनाह है मेरा प्रेम जो दर्द से समझौता कर लेता है
गुनाह है मेरॊ रूह जो बंधन में रह जाती है
गुनाह है मेरा पाँव जो उम्मीदों पर चल पड़ता है
गुनाह है मेरा सच जो सरेआम हो जाता है
गुनाह है मेरा हर रिश्ता जो हर बार टूट जाता है
गुनाह है मेरी आवाज़ें जो किसी को सुनायी नहीं देती हैं
गुनाह है मेरी इंसानियत जो बेशर्त बेइज़्ज़त होती है
गुनाह है मेरी आशाएँ जो बार-बार जन्म लेती हैं
गुनाह है मेरी भूख जो जीने को विवश कर देती है
गुनाह है मेरा जन्म जो हर ज़ुल्म सह लेता है
गुनाह है मेरा विश्वास जो सब कुछ ख़ुदा मान बैठा है
गुनाह है मेरी मौत जो इस तरह जीने देती है.....

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में