मैं डरता हूँ

01-10-2020

मैं डरता हूँ

राहुलदेव गौतम

           सिगरेट के धुँए में
           फैलता है
           मेरे संवेदनाओं का बादल
           जो संशकित हो कर
           इधर-उधर दौड़ता है
           और जब ठहरता है
           सिगरेट के दूसरे कश में
           जो धुंध के रूप में
           परिवर्तित हो जाता है
           जिसमें मेरी भयावह
           इच्छाएँ,
           मेरी साँसें घोंटने
           लगती हैं,
           नब्ज़ बैठने ही लगती है
           तभी कोई चुपके से...
           आवाज़ देकर चला
           जाता है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो