तुम अनीति से नहीं डरे थे

01-03-2021

तुम अनीति से नहीं डरे थे

संजय कवि ’श्री श्री’

तुम अनीति से नहीं डरे थे।
तुम्हे भय था,
तुम्हारे दोष के
खुल जाने का,
तुम्हारे स्याह
व्यक्तित्व
पर चढ़ी धवल परत के
धुल जाने का।
तुम अनीति से नहीं डरे थे।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
नज़्म
कविता - क्षणिका
खण्डकाव्य
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में