प्रेम में लीन होना,

प्रेम को अंगीकार करना;

तुम निर्भय होकर

नश्वरता स्वीकार करना।

 

ये प्रेम ही तो है,

जिसे तुम करने आये हो;

मही पे

घृणा पाप क्लेश को हरने आये हो।

 

प्रेम करो, बस प्रेम,

कभी तुम मर नहीं सकते;

शोक की अनुभूति

कभी तुम कर नहीं सकते।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कविता - क्षणिका
नज़्म
खण्डकाव्य
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में