कितने सभ्य हो गए हो तुम

01-04-2021

कितने सभ्य हो गए हो तुम

संजय कवि ’श्री श्री’

 

नम्र अभिमान गढ़कर,

नग्न सम्मान गढ़कर,

स्याह द्युतिमान गढ़कर,

कितने सभ्य हो गए हो तुम,

नए प्रतिमान गढ़कर।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कविता - क्षणिका
नज़्म
खण्डकाव्य
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में