हे मनुष्य! विध्वंस के स्वामी रुक जाओ

01-03-2021

हे मनुष्य! विध्वंस के स्वामी रुक जाओ

संजय कवि ’श्री श्री’

हे मनुष्य!
विध्वंस के स्वामी
रुक जाओ,
करबद्ध सदा
सम्मुख प्रकृति के
झुक जाओ।
मत छेड़ो
पर्वत पत्थर
सरिता के जल की धारा को,
उत्कंठा
अब थाम चलो
न्योतो ना भू-अंगारा को।
ये छूछा अभिमान
तुम्हारा
मंद करो,
वृक्षों का वध कर
राह बनाना
बंद करो।
हे मनुष्य!
विध्वंस के स्वामी
रुक जाओ।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
नज़्म
कविता - क्षणिका
खण्डकाव्य
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में