दिखते हैं बस, मिले हुए

01-04-2021

दिखते हैं बस, मिले हुए

संजय कवि ’श्री श्री’

मायामय सदृश समीप

सूरज की लाली लिए,

हम क्षितिज हैं जैसे,

दिखते हैं बस, मिले हुए।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कविता - क्षणिका
नज़्म
खण्डकाव्य
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में