भारत कण कण में जाग उठा

01-04-2021

भारत कण कण में जाग उठा

संजय कवि ’श्री श्री’

भारत कण कण में जाग उठा,

दुनिया ने हमें प्रणाम किया।

 

वसुधैव कुटुंबकम रीति रही,

सुंदर विचार को मान दिया;

है ऋषि मुनियों का देश मेरा,

जग को ज़ीरो का ज्ञान दिया।

 

जन जन में है जाग्रत भारत,

निर्मल भारत, सुंदर भारत;

है शांति शक्ति का दूत बना,

हो गया आत्मनिर्भर भारत।

 

राफेल लेकर उड़ता भारत,

रिपु के चक्षु में गड़ता भारत;

जल में, थल पर, नभ में देखो,

अद्भुत कौशल करता भारत।

 

प्रज्वल मशाल ले देश मेरा,

है विश्वगुरु की डगर चला;

जग को हम वैक्सीन दे,

मानवता का कर रहे भला।

 

नव राष्ट्र सृजन का नारा दे,

मोदी जी ने आह्वान किया;

भारत कण कण में जाग उठा,

दुनिया ने हमें प्रणाम किया।

 

भारत कण कण में जाग उठा,

दुनिया ने हमें प्रणाम किया।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कविता - क्षणिका
नज़्म
खण्डकाव्य
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में