हर घड़ी मृत्यु को जिया

15-03-2021

हर घड़ी मृत्यु को जिया

संजय कवि ’श्री श्री’

चाहे घने अवसाद हो,
स्वप्न गढ़ते ही रहेंगे;
आँधियाँ बरसात हो,
दिए जलते ही रहेंगे।
 
अजर अमर है चेतना,
ढूँढ़ा है अर्थ, अनर्थ में;
रोकोगे कैसे तुम मुझे,
हुआ हूँ सिद्ध, 'व्यर्थ' में।
 
निःशब्दता का शब्द हूँ,
मैं अनल हूँ, शीत सा;
है ज्ञान सारे पंथ का,
भविष्य हूँ अतीत सा।
 
अव्यक्तता में व्यक्त हूँ ,
मैं आसुरी देवत्व हूँ;
मिटाओगे कैसे मुझे,
मैं शून्य सा सर्वस्व हूँ।
 
भले पीयूष नहीं मिला,
निरामया विष ही पिया;
मारोगे कैसे तुम मुझे,
हर घड़ी मृत्यु को जिया।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कविता - क्षणिका
नज़्म
खण्डकाव्य
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में