रिमझिम पानी 

01-07-2020

फिर बारिश का   मौसम  आया 
आसमान पर बादल        छाया 


लगी कड़कने  ज़ोर से बिजली 
पहुँची कितनी शोर  से बिजली 


शुरू हुआ फिर रिमझिम  पानी 
बदल गई ये    रुत ही    सुहानी 


मेंढक   की    आवाज़ें     आईं 
मछली ने     भी   ख़ुशी  मनाई 


मोर भी   नाचा  जंगल -जंगल 
बोला बत्तख  बरसो     बादल 


बीज ज़मीं  पे    नन्हीं      वाली 
बन गई इक   मज़बूत सी डाली 


जितने  थे     मुरझाये       पौधे 
हरे -भरे   हो    आये         पौधे 


और   मज़ा  बारिश    का आता 
जहाँ -तहाँ   न  जल जम  जाता 
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें