दी चाँद को 

15-07-2020

चंदा  ने   जब शादी   रचाई 
दुल्हन बनकर चाँदनी आई 


हुए  बराती  तारे         सारे 
आसमान     में प्यारे -प्यारे 


बादल ने  क्या   ढोल बजाया 
लिए रौशनी  सूरज      आया 


बारातों     में    पहले  आकर 
चमकी बिजली ख़ुशी मनाकर 


गीत  सभी कोयल   ने   गाये 
मोर  ने अपने  नाच   दिखाये 


बारिश बर्फ़ में  ढलकर पहुँची 
कपड़े नये बदलकर     पहुँची


दी   चाँद   को   सबने बधाई 
चांदनी जैसी   भाभी      आई 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें