चीत्कार! हाहाकार!
भयातुर आँखें!
 
        सिसकती सभ्यता
        संस्कृति है कराहती
 
            प्रसन्न और संतुष्ट हैं
            चिकने धूर्त राजनयिक
                तुंदियल, भ्रष्ट, 
                व्याभिचारी राजनेता
 
इसीलिए 
लोकतंत्र स्वस्थ है?

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा
कविता
साहित्यिक
कहानी
हास्य-व्यंग्य आलेख/कहानी
सामाजिक
स्मृति लेख
आप-बीती
विडियो
ऑडियो