एक लंबी सुरंग
खड़ी प्रेत छाया 
द्वार पर उसके
निकलने का रास्ता नहीं कोई

प्रारंभ में चले थे जहाँ से
धसक कर टूट चुकी 
अब सुरंग वहाँ
मुश्किल है पहचानना अंधेरे में 
था उसका कैसा और
किस स्थिति में रचाव

छिन्न भिन्न रास्ता पीछे
सामने विकट स्थितियाँ
भयावह आकृति वह
डर पैठा अंतर में सघन
मन और मति दोनों 
कर गया अस्थिर

चेतना है शेष इतनी 
निकल सकता है रास्ता
सकुशल बच निकलने का
कुछ क्षणों के लिए यदि
हट जो वह भयंकर आकृति

डरती है प्रेत छाया
जिस आग और लोहे से
दोनों नहीं हैं पास 
अपने !

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा
कविता
साहित्यिक आलेख
कहानी
हास्य-व्यंग्य आलेख/कहानी
सामाजिक आलेख
स्मृति लेख
आप-बीती
विडियो
ऑडियो