पाठ पढ़ाते टीचर जी।
हमें सिखाते टीचर जी॥

 

चोरी, चुगली, छीना-झपटी।
बुरी बताते टीचर जी॥

 

सच बोलें हम लड़ें कभी ना।
हमें जताते टीचर जी॥

 

सबक़ याद करके ना लायें।
डाँट लगाते टीचर जी॥

 

कभी-कभी अच्छी कविताएँ।
हमें सुनाते टीचर जी॥

 

मम्मी वाला - "राजा बेटा"।
हमें बनाते टीचर जी॥

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
बाल साहित्य कविता
बाल साहित्य आलेख
किशोर साहित्य कविता
अपनी बात
कविता - हाइकु
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
नवगीत
विडियो
ऑडियो