फूल और तोता

15-09-2019

महका फूलों से मधुवन।
खिला फूल सा तोता-मन॥


तोता बैठा फूलों के पास।
भूल थकान, न रहा उदास॥


सोच रहा जल्दी घर जाऊँ।
मित्र और परिजन ले आऊँ॥


सबको मधुवन खूब घुमाऊँ।
रंग-बिरंगे फूल दिखाऊँ॥


सोच रहे हैं सारे फूल।
तोता राह गया है भूल॥


कितना सुंदर लगता प्यारा।
भूखा भी होगा बेचारा॥


आते लोगों की आहट से।
तोता फुर्र हुआ तब झट से॥


बच्चो!तुम भी सीखो,जानो।
ख़ुशी और पीड़ा पहचानो॥
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - हाइकु
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
कविता
किशोर साहित्य आलेख
बाल साहित्य आलेख
अपनी बात
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
हास्य-व्यंग्य कविता
नवगीत
विडियो
ऑडियो